Back to Blog

सुरक्षा सप्ताह

by Raghuram

Posted on January 18, 2016 at 10:30 AM

हर वर्ष आने वाला यह सुरक्षा सप्ताह कोई जलसा नहीं है बल्कि गंभीरता से लिया जाने वाला एक अभियान है l

चालक विकास केंद्र, बेंगलुरु और चालक विकास प्रयोगशाला, सोनीपत इस बात से सहमत हैं l ट्रांसपोर्ट मित्र के इन केंद्रों पर मेरे साथियों ने इस बात का दृढ़ संकल्प लिया है कि सुरक्षा सप्ताह को एक जलसे के रूप में नहीं बल्कि हाईवे चालकों के दिमागी परिवर्तन के लिए उपयोग करेंगे l उन्हें इस बात से अवगत कराएंगे की सुरक्षा नियमों का पालन सह यात्रियों , नागरिकों और खुद उनके और उनपर आश्रित परिवार सदस्यों के लिए भी बहुत महत्वपूर्ण होता है l

Road Safety Week

इन नौजवान साथियों का 3 सूत्रीय कार्यक्रम भले ही पैमाने में छोटा रहा हो परंतु इसके दीर्घकालीन असर को कम नहीं आंका जा सकता है l इस वर्ष सुरक्षा सप्ताह 11 जनवरी से लेकर 17 जनवरी तक था l

हर रोज सुबह और शाम ट्रांसपोर्टमित्र के दल ढाबे के प्रांगण ,ट्रक टर्मिनल , पेट्रोल पंप और ट्रांसपोर्ट अॉफिसों में जाकर हाईवे चालकों को इकत्रित कर उनकी ही मातृभाषा में सुरक्षा शपथ ग्रहण करवाते थे l सबसे अच्छी बात मुझे यह लगी कि वे पहले सुरक्षा शपथ को उन्हें समझाते थे और फिर शपथ ग्रहण किया जाता था जोशो- खरोश के साथ l उनकी ट्रेनिंग केंद्रों पर भी यही नजारा देखने को मिला l

इस कार्यक्रम का दूसरा सूत्र था हाईवे चालकों को सुरक्षा संकेतों और चिन्हों से अवगत करवाना l हाईवे के अधिकांश चालक बहुत कम पढ़े लिखे होते हैं l हँसते खेलते उनको सुरक्षा चिंन्हों के बारे में बताने का ट्रांसपोर्टमित्र का यह तरीका न केवल मनोरंजक बल्कि असरदार भी था l

उनके कार्यक्रम का तीसरा भाग था , सरल भाषा में लिखी गई अंग्रेजी और कन्नड की सुरक्षा पर्चियां को ड्राइवरों के साथ-साथ जनसाधारण में भी बांटना l मेरे मित्र पर्चियों को बांटने के साथ-साथ जहां कहीं भी मौका हाथ में लगा उन्हें बड़े उत्साह और उमंग के साथ समझा भी रहे थे l

उनका तकिया कलाम 'जान है तो जहान है' सुसंगत लगा l

सुरक्षा सप्ताह का अभियान सांकेतिक रुप से भले ही 1 सप्ताह का हो परंतु इसकी अहमियत वर्ष के पूरे 52 हफ्तों के लिये होती है l आज हमारे देश में आवश्यकता है सुरक्षा अभियान को एक क्रांतिकारी परिवर्तन में बदलने की जिससे हर रोज सड़कों की दुर्घटनाओं में हो रही 380 मौतों को रोका जा सके l

ट्रांसपोर्ट मित्र के इस सराहनीय कदम का हम तहे दिल से स्वागत करते हैं l


Back to Blog